9/29/17

Why should not do fasting during these disease | इतनी बीमारी में उपवास रखना क्यों मना है

Fasting
सभी धर्म में उपवास को आध्यात्मिक एवम स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना गया है. आयुर्वेद में उपवास का खास महत्व बताया गया है. योग्य समय पे भूखे रहने से हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहता है और कई सारी समस्या में लाभ मिल सकता है, लेकिन कुछ ऐसी बीमारी है जिसमें  डॉक्टर या हमारा आयुर्वेद उपवास करना मना करते है. ऐसी बीमारी में भूखा रहने से हेल्थ प्रॉब्लम बढ़ सकते है.  इतना ही नहीं कई बार गंभीर समस्या का सामना भी करना पड सकता है. आपको जान लेना बहुत ही जरूरी है की कौन-कौन सी बीमारी में उपवास करने से समस्या बढ़ सकती है. आइये जानते है किस तरह के मरीज को भूखा नहीं रहना चाहिए.

अनिमिआ के मरीज को योग्य समय पर उचित डाइट लेना जरूरी होता है. अनिमिआ के मरीज को भूखा नहीं रहना चाहिए. अनिमिआ यानी लोही की कमी हो ऐसे मरीज अगर भूखा रहता है लोही की कमी बढ़ सकती है और ऐसे मरीज के शरीर में कमजोरी और थकान बढ़ सकती है.
हार्ट पेशेंट को उपवास नहीं करना चाहिए. हार्ट पेशेंट अगर लम्बे वक्त तक भूखा रहता है तो  उनके बॉडी फंक्शन पर विपरीत असर होती है. जिनको हार्ट की समस्या है उनको अपने खान-पान और रहन-सहन पर पूरा ध्यान देना चाहिए. यह तकलीफ में नियमितता बहुत ही जरूरी होती है. योग्य वक्त पर दवाई लेना और अपने डाइट को फॉलो करना जरूरी होता है. किसी भी तरह की अनियमितता से हार्ट प्रॉब्लम बढ़ सकता है.

डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जिसमे हमें बहुत सावधानी रखनी होती है. डायबिटीज के दर्दी को योग्य वक्त पर खाना और दवाई लेना जरूरी होता है; इसीलिए अगर आपको डायबिटीज है तो कभी उपवास नहीं करना चाहिए और समय पे योग्य डाइट लेना चाहिए.

जिन लोगो को फेफड़े यानि लंग्स की समस्या है उन लोगो को भी उपवास नहीं करना चाहिए. अगर फेफड़े की तकलीफ वाले मरीज उपवास करते है तो फेफड़े की समस्या बढ़ सकती है.

किडनी की समस्या जिन लोगो को है उसे बहुत सावधानी रखनी होती है. योग्य वक्त पर दवाई लेना जरूरी होता है और योग्य वक्त पर योग्य आहार लेना भी जरूरी होता है. किडनी के मरीज को कभी भूखा नहीं रहना चाहिए. अगर किडनी की तकलीफ वाले दर्दी भूखे रहते है तो समस्या बढ़ सकती है, इतना ही नहीं भूखे रहने से किडनी फ़ैल होनी की सम्भावना भी बढ़ सकती है.
अगर किसीने अपने शरीर में ऑपरेशन करवाया है तो ऐसे लोगो को उपवास से दूर रहना चाहिए. जिन लोगो ने ऑपरेशन करवाया है ऐसे मरीज को विटामिन्स और मिनरल्स की खास जरूरत होती है. भूखे रहने से विटामिन्स और मिनरल्स पर्याप्त मात्रा में मिल नहीं पाते और दर्द में रिकवरी आने में ज्यादा समय लग सकता है. योग्य समय पे डॉक्टर के निर्देश के अनुसार पर्याप्त मात्रा में भोजन लेने से मरीज जल्दी से ठीक हो जायेगा.

प्रग्नेंट महिला को कभी भूखा नहीं रहना चाहिए. महिलाए ज्यादा धार्मिक होती है और तरह-तरह के व्रत उपवास करती है. अगर कोई महिला प्रग्नेंट है तो उसे कभी उपवास नहीं करना चाहिए, क्योकि प्रग्नेंट महिला को भी विटामिन्स और मिनरल्स की जरूरत होती है. इस समय उपवास रखने से पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स नहीं मिल पाते और इसी वजह से बच्चे अपर नेगेटिव असर  है. ऐसे वक्त पर भूखे  रहने से थकान और कमजोरी भी महसूस होती है.

बच्चे को ब्रैस्ट फीडिंग करने वाली  महिला को भी उपवास नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से उस माता को पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं पाने की वजह से बच्चे को भी पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता और बच्चे में कमजोरी आ सकती है.

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या वाले लोगो को भी उपवास करना मना है. अगर हाइपर टेंशन यानि हाई ब्लड प्रेशर का मरीज भूखा रहता है तो उनकी बॉडी सिस्टम ख़राब हो सकती है और उनके स्वास्थ्य पर भी नेगेटिव असर हो सकती है. भूखे रहने से ब्लड प्रेशर भी बढ़ सकता है या अनियमित हो सकता है. ऐसे मरीज को भूखे रहने की अनुमति आयुर्वेद और मेडिकल साइंस नहीं देते.
लिवर की समस्या एक जटिल समस्या है. लिवर की समस्या वाले मरीज को कभी भूखा नहीं रहना चाहिए, क्यों की ऐसा करने से लिवर की समस्या बढ़ सकती है, इतना ही नहीं जयादा वक्त तक भूखे रहने से लिवर फेलियर की सम्भावना भी बढ़ जाती है. ऐसे मरीज को योग्य समय पर दवाई और डॉक्टर के मार्गदर्शन के अनुसार योग्य डाइट लेना जरूरी होता है.

Related health tips articles:
कैसे करे मधुमेह को कंट्रोल, How to control diabetes with natural ways without medication in Hindi

जानलेवा स्वाइन फ्लू से कैसे बच सकते है, Swine Flu symptoms, home remedies and prevention

कैसे पाए छुटकारा अनिद्रा की समस्या से, How to get rid of insomnia means sleeping disorder

No comments:

Post a Comment