1/26/17

कैसे करे उच्च रक्तचाप को सामान्य, Ayurvedic treatment for high blood pressure make normal

आजका जीवन भाग-दौड़ वाला और तनावयुक्त है. हमारी जीवन-पद्धति अनियमित हो गई है. इतना ही नहीं हमारा खान-पान भी बिलकुल बदल गया है. ये सब वजह से हम ह्यपरटैंशन यानि उच्च रक्तचाप के शिकार बनते जा रहे है. हाई BP एक गंभीर बीमारी है. अगर हाई ब्लड प्रेशर का उपचार करके उसे कण्ट्रोल न किया जाये तो हम लकवा या हार्ट अटैक का शिकार बन सकते है. कई सारे लोग उच्च रक्तचाप को योग्य वक्त पर पहचानते नहीं है और कई बार अपनी जान भी गवा देते है. आज में आपको हाई BP के लिए आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट के बारे बताऊंगा की कैसे हम हाई ब्लड प्रेशर को सामान्य कर सकते है. हाई बीपी क्या है, लक्षण और नेचुरल ट्रीटमेंट के बारे में ज्यादा जानकारी पाने के लिए आप यहाँ हिंदी में वीडियो देख सकते हो.

उच्च रक्तचाप के लक्षण:
सामान्य और पर हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण बहरी ओर दिखाई नहीं देते, लेकिन जब ज्यादा बीपी बढ़ जाता  है तब देखने में धुंधलापन आ सकता है, चक्कर आ सकता है, साँस लेने में तकलीफ होती है, हाथ और पैरो में अचानक कमज़ोरी महसूस होती है और सिरदर्द होता है. अगर आप तिस साल पर कर चुकेहो तो साल मे कम से कम एक बार डॉक्टर से जाँच करवाइये या घर पर जाँच करे. अब तो बहुत कम कीमत में और आसानी से बीपी नापने का मशीन मिल रहा है. आप ऑनलाइन भी मनवा सकते हो. यहाँ क्लिक करके आप अमेज़न पर आर्डर दे सकते हो. अगर घर में किसीको हाई बीपी है तो बिस साल की उम्र के बाद हर साल अपना बीपी चेक करना चाहिए.

उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण पाने के लिए क्या करना चाहिए:
हाई बीपी लक्षण दिखने पर या बीपी हाई होने पर आपको इतना अवश्य करना होगा. थोड़ी सी भी लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है.
  •  योग्य समय पर डॉक्टर के पास जाँच करवाइये.
  • डॉक्टर के निर्देश के अनुसार दवाई नियमित लेनी जरूरी होती है. 
  • अगर आपका वजन ज्यादा है तो वजन कम करने की पूरी कोशिश करे. 
  • डॉक्टर से सलाह लेकर नियमित कसरत करे.
उच्च रक्तचाप के मरीज को अपने भोजन में कोनसे बदलाव लाना जरूरी होता है:
  • अपने आहार में स्वास्थ्यवर्धक चीजे अधिक मात्रा में ले; जैसे की गेहू, मकई, चावल रागी जैसे अनाज, सभी तरह की अंकुरित दाल या सेम,या सेम, हरी सब्जी एवं फलो को अपने भोजन में शामिल करे. सूरजमुखी के तेल का उपयोग करे. 
  • इतनी चीजों से दूर रहे; जैसे की तैलीय खाना, मक्खन, घी, अचार-पापड़, सॉस, चॉकलेट, केक, ठंडा पानी और कोल्ड-ड्रिंक्स. 
  • ज्यादा नमक वाला भोजन या ज्यादा नमकीन चीजे न खाये. 
  • सब्जी हरी और ताज़ी उपयोग करे. 
  • केला, संतरा आलू, हरे नारियल का पानी जैसी चीजों में पोटेशियम ज्यादा मात्रा में होता है, इसी लिए लिए ये चीजों का सेवन करे. पोटेशियम बीपी कम करने में मदद करता है. 
जीवन शैली में कोनसे बदलाव लाना जरूरी होता है:
  • अगर आपके जीवन में तनाव है तो उसे दूर करने की कोशिश करे.
  • अगर आप स्मोकिंग कर रहे हो तो उसे छोड़ दे.
  • अगर आप शराब पि रहे हो तो काम मात्रा में पिए.
  • अगर आप पैन-मसाला, तम्बाकू या गुटका कहते हो तो उसे बांध कर दे.
  • नियमितरूप से योग, प्राणायाम और ध्यान करे.
  • नियमितरूप से कसरत करे.

No comments:

Post a Comment